मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें?

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें?
मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें?

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें? – कोरोना वायरस महामारी के आ जाने के बाद लोग अपने शारीरिक स्वास्थ्य पर कुछ विशेष ही ध्यान रख रहे हैं। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए स्वस्थ खानपान बहुत ही जरूरी होता है। इसके साथ ही साथ आपको अपने मानसिक स्वास्थ्य का भी ख्याल रखना पड़ता है। यदि आपका मानसिक स्वास्थ्य अच्छा है तो आप लंबे समय तक शारीरिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं और बेहतर जीवन जी सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें?

यदि आपको किसी प्रकार का मानसिक तनाव है तो यह कई प्रकार के गंभीर बीमारियों जैसे डिप्रेशन माइग्रेन को जन्म देती है। इसके साथ ही साथ आपका सारिक स्वास्थ्य भी खराब हो जाता है। यदि आपको मानसिक तनाव से बचना है और मानसिक रूप से स्वस्थ रहना है तो इसके लिए आपको अपने खान-पान में पोषक तत्वों को शामिल करना बहुत ही जरूरी है। इसके साथ ही साथ कई ऐसे भी उपाय हैं जिनको अपनाकर आप मानसिक स्वास्थ्य बेहतर रख सकते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें?

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए आप अपने खानपान को बेहतर बनाने के साथ ही साथ कई सारे उपाय अपना सकते हैं और स्वस्थ रह सकते हैं। अब हम आपको नीचे बताएंगे कि मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए क्या-क्या करें?
दिमागी शक्ति बढ़ाने वाले फलों का सेवन करें

यदि आप मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखना चाहते हैं तो इसके लिए आप अपने डाइट में ऐसे फलों को शामिल करें जो दिमागी शक्ति बढ़ाने में मदद करती हैं। दिमागी शक्ति बढ़ाने वाले फलों में बादाम अखरोट इत्यादि का नाम सबसे पहले आता है। बहुत सारे लोग अपने दिमागी शक्ति को बेहतर बनाने के लिए इनका सेवन करते हैं। इतना ही नहीं आप ट्यूना, सीप, चिया सीड्स, अखरोट, सोयाबीन, फ़्लैक्स सीड्स, एवोकाडो इत्यादि का भी सेवन कर सकते हैं। इन सभी में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है जो मस्तिष्क के अंदर की झिल्लियों को तरल बनाने का काम करते हैं। इस तरह से आपका दिमागी विकास निरंतर गति से होता रहता है और मानसिक स्वास्थ्य बरकरार रहता है।

खुश होने वाले हार्मोन्स बढ़ाने वाले फल

वर्तमान समय व्यक्ति को अलग-अलग प्रकार के कई मानसिक तनाव होते रहते हैं और इससे बचना लगभग मुश्किल ही है। इसीलिए मानसिक स्वास्थ्य को मजबूत बनाने के लिए मानसिक रूप से खुद को शांत रखना बहुत ही जरूरी होता है। कई ऐसे फूड हैं जिनका सेवन करने से खुश होने वाले हार्मोन्स का स्राव होता है। इसे अंग्रेजी में हैप्पी हार्मोन कहा जाता है और वैज्ञानिक भाषा में सेरोटोनिन कहते हैं।

यह एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है जो आपके मूड को कंट्रोल करने के साथ-साथ कई प्रकार के जैविक प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है । ऐसे फूड का उपयोग डिप्रेशन से बचने वाले दवाइयों में भी किया जाता है। यदि आप अपने शरीर में सेरोटोनिन लेवल को बढ़ाना चाहते हैं तो इसके लिए बेरीज़, दही, बादाम, डार्क चॉकलेट, केला और अंडा इत्यादि का सेवन करना जरूरी है।

हैप्पी गुड फूड का सेवन करें

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए हैप्पी गुड फूड का सेवन करना बहुत ही जरूरी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 90% खुशहाली न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन गट द्वारा स्रावित होता है यह सब घट फ्रेंडली बैक्टीरिया की मदद से संभव होता है। इसकी वजह से आपका पेट का स्वास्थ्य और उसका आकार बेहतर बनता है। यदि गट सेरोटोनिन में किसी प्रकार की कोई समस्या आती है तो इससे मूड डिसऑर्डर और कई प्रकार के मानसिक बीमारियां हो सकती हैं ।

यदि आप इससे बचना चाहते हैं तो आपको कब्ज एसिडिटी ब्लोटिंग याद से बचना पड़ेगा। यदि आप अपने शरीर में गुड बैक्टीरिया को अधिक से अधिक बढ़ाना चाहते हैं तो इसके लिए किमची, दही और कोम्बुचा जैसे प्रोबायोटिक युक्त खाद्य पदार्थों को अपने डाइट में शामिल करना बहुत ही जरूरी है। इसके साथ ही साथ आपको शक्कर, प्रॉसेस्ड फ़ूड, एक्सेस ग्लूटन और शराब से बचना पड़ेगा।

आयरन रिच फूड्स

यदि आप अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखना चाहते हैं तो इसके लिए आयरन रिच फूड्स का सेवन करना भी काफी जरूरी है । ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें ऑक्सीडेटिव मोटा बुलीज में एवं फ्री रेडिकल्स को कम करने में मदद मिलती है। यदि आप आयरन रिच फूड्स खाते हैं तो आपके शहर में एनीमिया आयरन की कमी डिप्रेशन और खराब एकाग्रता जैसी मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है । यदि आप फोकस्ड ऊर्जावान और सकारात्मकता को बनाए रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको आयरन के सही सेवन ।

आयरन मूड और मेंटल हेल्थ के लिए काफ़ी आवश्यक है क्योंकि यह ऑक्सिडेटिव मेटाबॉलिज़्म और फ्री रेडिकल्स को कम करने में शामिल होता है. एनीमिया, या आयरन की कमी, चिंता, चिड़चिड़ापन, डिप्रेशन और कॉग्नेटिव एबिलिटी में गिरावट (ख़राब एकाग्रता) सहित कई मनोवैज्ञानिक परेशानियों को पैदा करने का कारण बनता है. दूसरी ओर, ऊर्जावान, फ़ोकस्ड और सकारात्मकता बनाए रखने के लिए आयरन के सही स्तर का होना ज़रूरी होता है. पालक, दालें, रेड मीट, कीन्वा, ब्रोकली और नट्स जैसे फूड्स के जरिए अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*